नेशनल तीरंदाज ने डूंगरपुर में खेल प्रतिभाओं को तराशने का उठाया बीड़ा

On

डूंगरपुर। कहते है प्रतिभाएं गांवों में छुपी है और इन्ही प्रतिभाओं तराशकर आगे लाने का बीड़ा उठाया है नेशनल तीरंदाज श्यामसुंदर ने। श्यामसुंदर ने नेशनल तीरंदाजी में कई बार हिस्सा लिया, लेकिन खुद को अच्छी कोचिंग नही मिल पाने की टीस हमेशा रही। यही टीस गांवों में छुपी दूसरी खेल प्रतिभाओं को नही रहे, इसलिए ऐसे अच्छे खिलाड़ियों को ट्रैंड करने में श्याम सुंदर जुट गए है।

IMG_20221123_210802

नेशनल तीरंदाज श्याम सुंदर अंतराष्ट्रीय तीरंदाज लिंबाराम के चचेरे भाई है। उदयपुर के कोटड़ा के रहने वाले श्यामसुंदर पिछले कुछ समय से डूंगरपुर में खेल प्रतिभाओं को तराशने के साथ विभिन्न कुरूतियो के खिलाफ आदिवासी समाज को जागरूक करने के लिए काम कर रहे है। इसके लिए उन्होंने उनके पिता और अंतरराष्ट्रीय तीरंदाज लिंबाराम के पहले गुरु स्वर्गीय लच्छूराम अहारी से प्रेरणा लेकर जन जागरण संस्थान के नाम पर एक संस्था बनाई है। इसी संस्था के माध्यम से खुद खेल प्रतिभाओं को तराश रहे है। श्यामसुंदर खुद एक तीरंदाज है, लेकिन उनका कहना है की से केवल तीरंदाजी के खिलाड़ियों को ही नहीं बल्कि सभी खेलो में बच्चो को आगे लाना चाहते है। इसलिए तीरंदाजी से लेकर एथलेटिक्स, बालीबाल, फुटबाल, हॉकी, क्रिकेट सहित सभी खेलो में खिलाड़ियों को ट्रैंड करेंगे। इसके लिए खिलाड़ियों को तराशने का काम कर रहे है।

 पहले चरण में अलग अलग खेलो के 100 खिलाड़ियों का करेंगे चयन

श्याम सुन्दर ने कहा की इन खिलाड़ियों को चयनित करने के बाद ट्रेनिंग की सबसे बड़ी चुनौती रहेगी। ऐसे में वे आदिवासी क्षेत्र के सभी पार्टियों के नेताओ से मिलकर खिलाड़ियों के लिए अच्छी ट्रेनिंग से लेकर पढ़ाई के इंतजाम को लेकर चर्चा करेंगे। 

IMG_20221123_210738

तीरंदाज श्यामसुंदर ने बताया की इस क्षेत्र के खिलाड़ी पीटी ऊषा बने, सानिया मिर्जा बने, सचिन तेंदुलकर बने और देश दुनिया में मेडल जीतकर डूंगरपुर का नाम रोशन करे यही टारगेट है। उन्होंने कहा की इस इलाके में खेलो में कई टेलेंट है लेकिन उन्हें मार्गदर्शन नही मिलने से आगे नहीं आ पाती है। उन्ही के लिए अब आगे काम करना चाहते है।वही तीरंदाज श्याम सुंदर ने बताया की उनके द्वारा स्थापित किये गए जन जागरण संस्थान के द्वारा उन्होंने आदिवासी समाज में फैली कुरीतियों के खिलाफ आमजन को जागरूक करने का भी बीड़ा उठाया ।

Join Wagad Sandesh WhatsApp Group

Advertisement

Latest News

पर्यावरण संरक्षण : गामडा ब्राह्मणीया में 1356 पौधे लगाने का लक्ष्य पर्यावरण संरक्षण : गामडा ब्राह्मणीया में 1356 पौधे लगाने का लक्ष्य
सागवाड़ा | जिला कलेक्टर एवं मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी डूंगरपुर के आदेशानुसार सघन वृक्षारोपण अभियान की तैयारी के तहत पीईईओ...

Advertisement

आज का ई - पेपर पढ़े

Advertisement

Advertisement

Contact Us

Latest News

Advertisement

Live Cricket

वागड़ संदेश TV