खेलने-कूदने की उम्र में मौत का खेल | पढ़िए खास ख़बर

On

डूंगरपुर | खेलने-कूदने और पढ़ाई-लिखाई की छोटी सी उम्र में छत्तीसगढ़ निवासी बच्चियां 8 से 10 फ़ीट की ऊंची रस्सी पर चलकर इन दिनों डूंगरपुर जिले में मौत के खेल का करतब दिखा रही है। उनके करतब को देखकर हर कोई दांतो तले उंगली दबाने को भी मजबूर है। लेकिन पीढियों से चली आ रही इस परम्परा का निर्वहन करने वाली इन बच्चियों के करतब से ही उनका ओर परिवार का पेट भी पल रहा है। 

sdfd

डूंगरपुर शहर की सड़कों पर करतब दिखाए रही छोटी बच्चियों की उम्र महज 6 से 9 साल की है। इस उम्र बच्चियों के खेलने-कूदने ओर पढ़ने-लिखने की है लेकिन शिक्षा की डगर से दूर पापी पेट के लिए ये बच्चिया रस्सी पर मौत का खेल दिखाने को मजबूर है |  बच्चियां रस्सी से मौत का खेल इतना बेहतर करती है कि देखने वाला भी दंग रह जाती है । जय कुमार राजनट ने बताया कि वे छत्तीसगढ़ के जांजगीर बेलहाडी गांव के रहने वाले है। उनके परिवार में कई पीढ़ियों से रस्सी से मौत का झूला का करतब दिखाते है। बच्ची के 5 साल की होने के बाद ही उसे रस्सी पर चलने की ट्रेनिंग शुरू कर देते है।

dfgf

2 महीने में रस्सी पर बैलेंसिंग के साथ करतब सीख लेती है और फिर टोली के साथ ही बच्चियां अलग-अलग राज्य, जिलों व गांवो में जाकर करतब दिखाते है। करतब दिखाने के बाद लोग खुश होकर जो कुछ देते है उसी से उनका ओर पूरे परिवार का पेट पलता है। जय कुमार राजनट ने बताया कि छत्तीसगढ़ में राजनट परिवार में हर घर मे बच्चियां इस तरह के करतब दिखाती है। उनके रोजगार का भी यही एक माध्यम है। सरकार की ओर से भी कभी कोई मदद नहीं मिलती, जिस कारण यह काम छोड़ने की इच्छा होने के बाद भी नहीं छोड़ सकते है। उन्होंने यह भी कहा कि पुरखो की यह कला आज भी जीवित है। 

Advertisement

Latest News

सिलोही में मूर्ति स्थापना एवं शिखर प्रतिष्ठा महोत्सव, श्रद्धालुओं ने हवन में समर्पित की आहुतियां सिलोही में मूर्ति स्थापना एवं शिखर प्रतिष्ठा महोत्सव, श्रद्धालुओं ने हवन में समर्पित की आहुतियां
गलियाकोट। सिलोही में छह मंदिरों की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर तीसरे दिन शनिवार को श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर दो श्री...

Advertisement

आज का ई - पेपर पढ़े

Advertisement

Advertisement

Latest News

Advertisement

Live Cricket

वागड़ संदेश TV